Today's Deals: Great Savings. Every Day.

{Amazon Best Deals} [Flipkart 50% Discount Deals] [Latest Jio Offers]

True Lines : बच्चा पैदा करने के लिए क्या आवश्यक है..?

No Comments

 पुरुष का वीर्य और औरत का गर्भ...!

लेकिन रुकिए ...सिर्फ गर्भ...?
नहीं... नहीं...!!!
एक ऐसा शरीर जो इस क्रिया के लिए तैयार हो
जबकि वीर्य के लिए 13 साल और 70 साल का
वीर्य भी चलेगा
लेकिन गर्भाशय का मजबूत होना अति आवश्यक है
इसलिए सेहत भी अच्छी होनी चाहिए
एक ऐसी स्त्री का गर्भाशय
जिसको बाकायदा हर महीने समयानुसार
माहवारी (Period) आती हो
जी हाँ
वही माहवारी जिसको सभी स्त्रियाँ
हर महीने बर्दाश्त करती हैं
बर्दाश्त इसलिए क्योंकि
महावारी (Period) उनका Choice नहीं है
यह कुदरत के द्वारा दिया गया एक नियम है
वही महावारी जिसमें शरीर पूरा अकड़ जाता है
कमर लगता है टूट गयी हो
पैरों की पिण्डलियाँ फटने लगती हैं
लगता है पेड़ू में किसी ने पत्थर ठूँस दिये हों
दर्द की हिलोरें सिहरन पैदा करती हैं
ऊपर से लोगों की घटिया मानसिकता की वजह से
इसको छुपा छुपा के रखना अपने आप में
किसी जँग से कम नहीं
बच्चे को जन्म देते समय
असहनीय दर्द को बर्दाश्त करने के लिए
मानसिक और शारीरिक दोनो रूप से तैयार हों
बीस हड्डियाँ एक साथ टूटने जैसा दर्द
सहन करने की क्षमता से परिपूर्ण हों।
गर्भधारण करने के बाद शुरू के 3 से 4 महीने
जबरदस्त शारीरिक और हार्मोनल बदलाव के चलते
उल्टियाँ, थकान, अवसाद के लिए
मानसिक रूप से तैयार हों
5वें से 9वें महीने तक अपने बढ़े हुए पेट और
शरीर के साथ सभी काम यथावत करने की शक्ति हो
गर्भधारण के बाद कुछ
विशेष परिस्थितियों में तरह तरह के
हर दूसरे तीसरे दिन इंजेक्शन लगवानें की
हिम्मत रखती हों
जो कभी एक इंजेक्शन लगने पर भी
घर को अपने सिर पर उठा लेती थी
प्रसव पीड़ा को दो-चार, छः घंटे के अलावा
दो दिन, तीन दिन तक बर्दाश्त कर सकने की क्षमता हो और अगर फिर भी बच्चे का आगमन ना हो तो
गर्भ को चीर कर बच्चे को बाहर निकलवाने की
हिम्मत रखती हों
अपने खूबसूरत शरीर में Stretch Marks और
Operation का निशान ताउम्र अपने साथ ढोने को तैयार हों
कभी कभी प्रसव के बाद दूध कम उतरने या ना उतरने की दशा में तरह-तरह के काढ़े और दवाई पीने का साहस रखती हों
जो अपनी नीन्द को दाँव पर लगा कर
दिन और रात में कोई फर्क ना करती हो
3 साल तक सिर्फ बच्चे के लिए ही जीने की शर्त पर गर्भधारण के लिए राजी होती हैं
एक गर्भ में आने के बाद
एक स्त्री की यही मनोदशा होती है
जिसे एक पुरुष शायद ही कभी समझ पाये
औरत तो स्वयं अपने आप में एक शक्ति है
बलिदान है
इतना कुछ सहन करतें हुए भी वह
तुम्हारें अच्छे-बुरे, पसन्द-नापसन्द का ख्याल रखती है
अरे जो पूजा करनें योग्य है जो पूजनीय है
उसे हम बस अपनी उपभोग समझते हैं
उसके ज़िन्दगी के हर फैसले
खुशियों और धारणाओं पर
हम अपना अँकुश रख कर खुद को मर्द समझते हैं
इस घटिया मर्दानगी पर अगर इतना ही घमण्ड है हमें
तो बस एक दिन खुद को उनकी जगह रख कर देखें
अगर ये दो कौड़ी की मर्दानगी बिखर कर चकनाचूर न हो जाये तो कहना
याद रखें...
जो औरतों की इज्ज़त करना नहीं जानतें
वो कभी मर्द हो ही नहीं सकतें



Dear readers, after reading the Content please ask for advice and to provide constructive feedback Please Write Relevant Comment with Polite Language.Your comments inspired me to continue blogging. Your opinion much more valuable to me. Thank you.